Home Religious श्री लक्ष्मी सूक्त पाठ – अर्थ सहित हिंदी और इंग्लिश

श्री लक्ष्मी सूक्त पाठ – अर्थ सहित हिंदी और इंग्लिश

1
219
श्री लक्ष्मी सूक्त पाठ, श्री लक्ष्मी सूक्त का पाठ, shri lakshmi suktam path

श्री लक्ष्मी सूक्त पाठ

हरिः ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं विन्देयं गामश्वं पुरुषानहम् ॥

अश्वपूर्वां रथमध्यां हस्तिनादप्रबोधिनीम् ।
श्रियं देवीमुपह्वये श्रीर्मा देवी जुषताम् ॥

कां सोस्मितां हिरण्यप्राकारामार्द्रां ज्वलन्तीं तृप्तां तर्पयन्तीम् ।
पद्मे स्थितां पद्मवर्णां तामिहोपह्वये श्रियम् ॥

चन्द्रां प्रभासां यशसा ज्वलन्तीं श्रियं लोके देवजुष्टामुदाराम् ।
तां पद्मिनीमीं शरणमहं प्रपद्येऽलक्ष्मीर्मे नश्यतां त्वां वृणे ॥

आदित्यवर्णे तपसोऽधिजातो वनस्पतिस्तव वृक्षोऽथ बिल्वः ।
तस्य फलानि तपसानुदन्तु मायान्तरायाश्च बाह्या अलक्ष्मीः ॥

उपैतु मां देवसखः कीर्तिश्च मणिना सह ।
प्रादुर्भूतोऽस्मि राष्ट्रेऽस्मिन् कीर्तिमृद्धिं ददातु मे ॥

क्षुत्पिपासामलां ज्येष्ठामलक्ष्मीं नाशयाम्यहम् ।
अभूतिमसमृद्धिं च सर्वां निर्णुद मे गृहात् ॥

गन्धद्वारां दुराधर्षां नित्यपुष्टां करीषिणीम् ।
ईश्वरींग् सर्वभूतानां तामिहोपह्वये श्रियम् ॥

मनसः काममाकूतिं वाचः सत्यमशीमहि ।
पशूनां रूपमन्नस्य मयि श्रीः श्रयतां यशः ॥

कर्दमेन प्रजाभूता मयि सम्भव कर्दम ।
श्रियं वासय मे कुले मातरं पद्ममालिनीम् ॥

आपः सृजन्तु स्निग्धानि चिक्लीत वस मे गृहे ।
नि च देवीं मातरं श्रियं वासय मे कुले ॥

आर्द्रां पुष्करिणीं पुष्टिं पिङ्गलां पद्ममालिनीम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

आर्द्रां यः करिणीं यष्टिं सुवर्णां हेममालिनीम् ।
सूर्यां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं प्रभूतं गावो दास्योऽश्वान् विन्देयं पूरुषानहम् ॥

यः शुचिः प्रयतो भूत्वा जुहुयादाज्यमन्वहम् ।
सूक्तं पञ्चदशर्चं च श्रीकामः सततं जपेत् ॥

॥ फलश्रुति ॥

पद्मानने पद्म ऊरु पद्माक्षी पद्मासम्भवे ।
त्वं मां भजस्व पद्माक्षी येन सौख्यं लभाम्यहम् ॥

अश्वदायि गोदायि धनदायि महाधने ।
धनं मे जुषतां देवि सर्वकामांश्च देहि मे ॥

पुत्रपौत्र धनं धान्यं हस्त्यश्वादिगवे रथम् ।
प्रजानां भवसि माता आयुष्मन्तं करोतु माम् ॥

धनमग्निर्धनं वायुर्धनं सूर्यो धनं वसुः ।
धनमिन्द्रो बृहस्पतिर्वरुणं धनमश्नुते ॥

वैनतेय सोमं पिब सोमं पिबतु वृत्रहा ।
सोमं धनस्य सोमिनो मह्यं ददातु सोमिनः ॥

न क्रोधो न च मात्सर्य न लोभो नाशुभा मतिः ।
भवन्ति कृतपुण्यानां भक्तानां श्रीसूक्तं जपेत्सदा ॥

वर्षन्तु ते विभावरि दिवो अभ्रस्य विद्युतः ।
रोहन्तु सर्वबीजान्यव ब्रह्म द्विषो जहि ॥

पद्मप्रिये पद्मिनि पद्महस्ते पद्मालये पद्मदलायताक्षि ।
विश्वप्रिये विष्णु मनोऽनुकूले त्वत्पादपद्मं मयि सन्निधत्स्व ॥

या सा पद्मासनस्था विपुलकटितटी पद्मपत्रायताक्षी ।
गम्भीरा वर्तनाभिः स्तनभर नमिता शुभ्र वस्त्रोत्तरीया ॥

लक्ष्मीर्दिव्यैर्गजेन्द्रैर्मणिगणखचितैस्स्नापिता हेमकुम्भैः ।
नित्यं सा पद्महस्ता मम वसतु गृहे सर्वमाङ्गल्ययुक्ता ॥

लक्ष्मीं क्षीरसमुद्र राजतनयां श्रीरङ्गधामेश्वरीम् ।
दासीभूतसमस्त देव वनितां लोकैक दीपांकुराम् ॥

श्रीमन्मन्दकटाक्षलब्ध विभव ब्रह्मेन्द्रगङ्गाधराम् ।
त्वां त्रैलोक्य कुटुम्बिनीं सरसिजां वन्दे मुकुन्दप्रियाम् ॥

सिद्धलक्ष्मीर्मोक्षलक्ष्मीर्जयलक्ष्मीस्सरस्वती ।
श्रीलक्ष्मीर्वरलक्ष्मीश्च प्रसन्ना मम सर्वदा ॥

वरांकुशौ पाशमभीतिमुद्रां करैर्वहन्तीं कमलासनस्थाम् ।
बालार्क कोटि प्रतिभां त्रिणेत्रां भजेहमाद्यां जगदीस्वरीं त्वाम् ॥

सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके ।
शरण्ये त्र्यम्बके देवि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
नारायणि नमोऽस्तु ते ॥ नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

सरसिजनिलये सरोजहस्ते धवलतरांशुक गन्धमाल्यशोभे ।
भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञे त्रिभुवनभूतिकरि प्रसीद मह्यम् ॥

विष्णुपत्नीं क्षमां देवीं माधवीं माधवप्रियाम् ।
विष्णोः प्रियसखीं देवीं नमाम्यच्युतवल्लभाम् ॥

महालक्ष्मी च विद्महे विष्णुपत्नी च धीमहि ।
तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात् ॥

श्रीवर्चस्यमायुष्यमारोग्यमाविधात् पवमानं महियते ।
धनं धान्यं पशुं बहुपुत्रलाभं शतसंवत्सरं दीर्घमायुः ॥

ऋणरोगादिदारिद्र्यपापक्षुदपमृत्यवः ।
भयशोकमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा ॥

य एवं वेद ।
ॐ महादेव्यै च विद्महे विष्णुपत्नी च धीमहि ।
तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात्
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥

Shri Suktam Path

Hirannya-Varnnaam Harinniim Suvarnna-Rajata-Srajaam ।
Candraam Hirannmayiim Lakssmiim Jaatavedo Ma Aavaha ॥

Taam Ma Aavaha Jaatavedo Lakssmiim-Anapagaaminiim ।
Yasyaam Hirannyam Vindeyam Gaam-Ashvam Purussaan-Aham ॥

Ashva-Puurvaam Ratha-Madhyaam Hastinaada-Prabodhiniim ।
Shriyam Deviim-Upahvaye Shriirmaa Devii Jussataam ॥

Kaam So-Smitaam Hirannya-Praakaaraam-Aardraam Jvalantiim Trptaam Tarpayantiim ।
Padme Sthitaam Padma-Varnnaam Taam-Iho[a-u]pahvaye Shriyam ॥

Candraam Prabhaasaam Yashasaa Jvalantiim Shriyam Loke Deva-Jussttaam-Udaaraam ।
Taam Padminiim-Iim Sharannam-Aham Prapadye-[A]lakssmiir-Me Nashyataam Tvaam Vrnne ॥

Aaditya-Varnne Tapaso[a-A]dhi-Jaato Vanaspatis-Tava Vrksso[ah-A]tha Bilvah ।
Tasya Phalaani Tapasaa-Nudantu Maaya-Antaraayaashca Baahyaa Alakssmiih ॥

Upaitu Maam Deva-Sakhah Kiirtish-Ca Manninaa Saha ।
Praadurbhuuto[ah-A]smi Raassttre-[A]smin Kiirtim-Rddhim Dadaatu Me ॥

Kssut-Pipaasaa-Malaam Jyesstthaam-Alakssmiim Naashayaamy-Aham ।
Abhuutim-Asamrddhim Ca Sarvaam Nirnnuda Me Grhaat ॥

Gandha-Dvaaraam Duraadharssaam Nitya-Pussttaam Kariissinniim ।
Iishvariing Sarva-Bhuutaanaam Taam-Iho[a-u]pahvaye Shriyam ॥

Manasah Kaamam-Aakuutim Vaacah Satyam-Ashiimahi ।
Pashuunaam Ruupam-Annasya Mayi Shriih Shrayataam Yashah ॥

Kardamena Prajaa-Bhuutaa Mayi Sambhava Kardama ।
Shriyam Vaasaya Me Kule Maataram Padma-Maaliniim ॥

Aapah Srjantu Snigdhaani Cikliita Vasa Me Grhe ।
Ni Ca Deviim Maataram Shriyam Vaasaya Me Kule ॥

Aardraam Pusskarinniim Pussttim Pinggalaam Padma-Maaliniim ।
Candraam Hirannmayiim Lakssmiim Jaatavedo Ma Aavaha ॥

Aardraam Yah Karinniim Yassttim Suvarnnaam Hema-Maaliniim ।
Suuryaam Hirannmayiim Lakssmiim Jaatavedo Ma Aavaha ॥

Taam Ma Aavaha Jaatavedo Lakssmiim-Anapagaaminiim ।
Yasyaam Hirannyam Prabhuutam Gaavo Daasyo-[A]shvaan Vindeyam Puurussaan-Aham ॥

Yah Shucih Prayato Bhuutvaa Juhu-Yaad-Aajyam-Anvaham ।
Suuktam Pan.cadasharcam Ca Shriikaamah Satatam Japet ॥

॥ Fal Shruti ॥

Padma-[A]anane Padma Uuru Padma-Akssii Padmaa-Sambhave ।
Tvam Maam Bhajasva Padma-Akssii Yena Saukhyam Labhaamy-Aham ॥

Ashva-Daayi Go-Daayi Dhana-Daayi Mahaa-Dhane ।
Dhanam Me Jussataam Devi Sarva-Kaamaamsh-Ca Dehi Me ॥

Putra-Pautra Dhanam Dhaanyam Hasty-Ashva-[A]adi-Gave Ratham ।
Prajaanaam Bhavasi Maataa Aayussmantam Karotu Maam ॥

Dhanam-Agnir-Dhanam Vaayur-Dhanam Suuryo Dhanam Vasuh ।
Dhanam-Indro Brhaspatir-Varunnam Dhanam-Ashnute ॥

Vainateya Somam Piba Somam Pibatu Vrtrahaa ।
Somam Dhanasya Somino Mahyam Dadaatu Sominah ॥

Na Krodho Na Ca Maatsarya Na Lobho Na-Ashubhaa Matih ।
Bhavanti Krtapunnyaanaam Bhaktaanaam Shriisuuktam Japet-Sadaa ॥

Varssantu Te Vibhaavari Divo Abhrasya Vidyutah ।
Rohantu Sarva-Biija-Anyava Brahma Dvisso Jahi ॥

Padma-Priye Padmini Padma-Haste Padma-[A]alaye Padma-Dalaayata-Akssi ।
Vishva-Priye Vissnnu Mano-[A]nukuule Tvat-Paada-Padmam Mayi Sannidhatsva ॥

Yaa Saa Padma-[A]asana-Sthaa Vipula-Kattitattii Padma-Patraayata-Akssii ।
Gambhiiraa Varta-Naabhih Stanabhara Namitaa Shubhra Vastro[a-u]ttariiyaa ॥

Lakssmiir-Divyair-Gajendrair-Manni-Ganna-Khacitais-Snaapitaa Hema-Kumbhaih ।
Nityam Saa Padma-Hastaa Mama Vasatu Grhe Sarva-Maanggalya-Yuktaa ॥

Lakssmiim Kssiira-Samudra Raaja-Tanayaam Shriirangga-Dhaame[a-Ii]shvariim ।
Daasii-Bhuuta-Samasta Deva Vanitaam Loka-i[e]ka Diipa-Amkuraam ॥

Shriiman[t]-Manda-Kattaakssa-Labdha Vibhava Brahme(a-I)ndra-Ganggaadharaam ।
Tvaam Trai-Lokya Kuttumbiniim Sarasijaam Vande Mukunda-Priyaam ॥

Siddha-Lakssmiir-Mokssa-Lakssmiir-Jaya-Lakssmiis-Sarasvatii ।
Shrii-Lakssmiir-Vara-Lakssmiishca Prasannaa Mama Sarvadaa ॥

Vara-Angkushau Paasham-Abhiiti-Mudraam Karair-Vahantiim Kamala-[A]asana-Sthaam ।
Baala-[A]arka Kotti Pratibhaam Tri-Netraam Bhaje-[A]ham-Aadyaam Jagad-Iisvariim Tvaam ॥

Sarva-Manggala-Maanggalye Shive Sarva-Artha Saadhike ।
Sharannye Try-Ambake Devi Naaraayanni Namostu Te ॥
Naaraayanni Namostu Te ॥ Naaraayanni Namostu Te ॥

Sarasija-Nilaye Saroja-Haste Dhavalatara-Amshuka Gandha-Maalya-Shobhe ।
Bhagavati Hari-Vallabhe Manojnye Tri-Bhuvana-Bhuuti-Kari Prasiida Mahyam ॥

Vissnnu-Patniim Kssamaam Deviim Maadhaviim Maadhava-Priyaam ।
Vissnnoh Priya-Sakhiim Deviim Namaamy-Acyuta-Vallabhaam ॥

Mahaalakssmii Ca Vidmahe Vissnnu-Patnii Ca Dhiimahi ।
Tan[t]-No Lakssmiih Pracodayaat ॥

Shrii-Varcasyam-Aayussyam-Aarogyamaa-Vidhaat Pavamaanam Mahiyate ।
Dhanam Dhaanyam Pashum Bahu-Putra-Laabham Shatasamvatsaram Diirgham-Aayuh ॥

Rnna-Roga-[A]adi-Daaridrya-Paapa-Kssud-Apamrtyavah ।
Bhaya-Shoka-Manastaapaa Nashyantu Mama Sarvadaa ॥

Ya Evam Veda ।
Om Mahaa-Devyai Ca Vidmahe Vissnnu-Patnii Ca Dhiimahi ।
Tanno Lakssmiih Pracodayaat
Om Shaantih Shaantih Shaantih ॥


श्री लक्ष्मी सूक्त का पाठ अर्थ सहित – Suktam Path with meaning

हरिः ॐ हिरण्यवर्णां हरिणीं सुवर्णरजतस्रजाम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

(हे सर्वज्ञ अग्निदेव! सोने के रंग वाली, चांदी और सोने के हार धारण करने वाली, चंद्रमा के समान प्रशन कांति और स्वर्णमयी लक्ष्मी देवी को मेरे लिए आह्वान करो)

तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं विन्देयं गामश्वं पुरुषानहम् ॥

(हे अग्निदेव! लक्ष्मी जी का आह्वान करो जिनका कभी भी विनाश नहीं होता। मां लक्ष्मी के आने से मैं सोना, घोड़े, गौ)और उत्तर इत्यादि को प्राप्त करूँगा।)

अश्वपूर्वां रथमध्यां हस्तिनादप्रबोधिनीम् ।
श्रियं देवीमुपह्वये श्रीर्मा देवी जुषताम् ॥

(जिस देवी मां के आगे घोड़े और पीछे रख सदैव रहते हैं और जो हंसते नाथ को सुनकर प्रमोद हो जाती हैं मैं उन्हीं देवी मां का आह्वान करता हूं हे लक्ष्मी देवी मुझे प्राप्त हो।)

कां सोस्मितां हिरण्यप्राकारामार्द्रां ज्वलन्तीं तृप्तां तर्पयन्तीम् ।
पद्मे स्थितां पद्मवर्णां तामिहोपह्वये श्रियम् ॥

(जिनका रूप साक्षात ब्रह्मा के समान है, मंद मंद मुस्कान जिनकी है, जो सोने के आवरण से आवृत हैं, तेज़मयी, दया करने वाली, कामना को पूर्ण करने वाली और अपने भक्तों पर अनुग्रह करने वाली जो कमल के आसन पर विराजमान हैं मैं उन लक्ष्मी देवी मां का आह्वान करता हूं।)

चन्द्रां प्रभासां यशसा ज्वलन्तीं श्रियं लोके देवजुष्टामुदाराम् ।
तां पद्मिनीमीं शरणमहं प्रपद्येऽलक्ष्मीर्मे नश्यतां त्वां वृणे ॥

(जो चंद्रमा के समान शुभ्र कांति वाली, यस से दीप्ति मती, स्वर्ग लोक के देव गुणों के द्वारा पूजे जाने वाली, सुंदर शालीन, उदार शीला पद्म हस्ता लक्ष्मी देवी मां की शरण ग्रहण करता हूं। उनकी कृपा से मेरी दरिद्रता दूर हो जाए मैं आपकी शरण में हूँ।)

आदित्यवर्णे तपसोऽधिजातो वनस्पतिस्तव वृक्षोऽथ बिल्वः ।
तस्य फलानि तपसानुदन्तु मायान्तरायाश्च बाह्या अलक्ष्मीः ॥

(सूर्य के समान प्रकाश रूप वाली, आपके ही तप से वृक्षों में मंगलमय बिल्व वृक्ष उत्पन्न हुआ है। बिल्व वृक्ष (बेल पत्थर का वृक्ष) केवल हमारे अंदरूनी और बाहरी दरिद्रता को दूर करें)

उपैतु मां देवसखः कीर्तिश्च मणिना सह ।
प्रादुर्भूतोऽस्मि राष्ट्रेऽस्मिन् कीर्तिमृद्धिं ददातु मे ॥

(हे देवी मां! देव शाखा कुबेर और उनके मित्र मणिभद्र व दक्ष प्रजापति की कन्या कीर्ति मुझे प्राप्त हो अर्थात मुझे यश और धन की प्राप्ति हो। मैं इस राष्ट्र में पैदा हुआ हूं मुझे कीर्ति और रिद्धि प्रदान करें।)

क्षुत्पिपासामलां ज्येष्ठामलक्ष्मीं नाशयाम्यहम् ।
अभूतिमसमृद्धिं च सर्वां निर्णुद मे गृहात् ॥

(मैं लक्ष्मी जी की जेस्ट बहन अलक्ष्मी जो दरिद्रता की अधिष्ठात्री देवी हैं जो सुधा और बिपाशा से मल्लीन है और क्षीणकाय में रहती हैं उनका नाश चाहता हूं। हे देवी कृपा करके सभी प्रकार की दरिद्रता और मंगल को दूर करने की कृपा करें।)

गन्धद्वारां दुराधर्षां नित्यपुष्टां करीषिणीम् ।
ईश्वरींग् सर्वभूतानां तामिहोपह्वये श्रियम् ॥

(जो दुराधर्षां और नित्यपुष्टां है और गोबर से यानी पशुओं से युक्त गंध गुणवती हैं जिनका पृथ्वी स्वरूप है और सब भूतों की स्वामिनी हैं मैं उन लक्ष्मी देवी का अपने घर पर आह्वान करता हूं।)

मनसः काममाकूतिं वाचः सत्यमशीमहि ।
पशूनां रूपमन्नस्य मयि श्रीः श्रयतां यशः ॥

(हे मां मुझे संकल्प की सिद्धि और वाणी की सत्यता प्राप्त हो और मेरे मन की कामनाएं पूर्ण हो। गौ, गो पशु या विभिन्न प्रकार के अन्य भोग्य पदार्थों के रूप में और यश के रूप में मां श्री देवी जी हमारे यहां आगमन करें)

कर्दमेन प्रजाभूता मयि सम्भव कर्दम ।
श्रियं वासय मे कुले मातरं पद्ममालिनीम् ॥

(हे माँ देवी जी, आपके पुत्र कर्दम कि हम संतान हैं। कृपा आप हमारे यहां उत्पन्न हो तथा माला धारण करने वाली माता लक्ष्मी देवी को हमारे कुल में स्थापित करने की कृपा करें।)

आपः सृजन्तु स्निग्धानि चिक्लीत वस मे गृहे ।
नि च देवीं मातरं श्रियं वासय मे कुले ॥

(हे लक्ष्मी पुत्र चिकलीत! आप जल स्निग्ध पदार्थों की सृष्टि करें, और आप भी मेरे घर में वास करें और माता लक्ष्मी देवी को मेरे कुल में निवास कराने की कृपा करें)

आर्द्रां पुष्करिणीं पुष्टिं पिङ्गलां पद्ममालिनीम् ।
चन्द्रां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

(हे अग्नि देवता! आदर्श भाव वाली, कमल हंसता, पुष्टि रूपा, पीतवर्णा पद्मों की माला।धारण करने वाली औरत चंद्रमा के समान कांति से युक्त स्वर्ण में मां लक्ष्मी देवी जी का मेरे यहां आह्वान करें।)

आर्द्रां यः करिणीं यष्टिं सुवर्णां हेममालिनीम् ।
सूर्यां हिरण्मयीं लक्ष्मीं जातवेदो म आवह ॥

(हे अग्निदेव! जो दूसरों को हरने वाली है और जो कोमल स्वभाव की है, मंगल दायिनी, अवलंबन प्रदान करने वाली, सुंदर वर्ण वाली, स्वर्ण माला को धारण करने वाली सूर्य के स्वरूप समान और हिरणयमयी हैं, उन माँ लक्ष्मी जी का मेरे लिए आह्वान करें।)

तां म आवह जातवेदो लक्ष्मीमनपगामिनीम् ।
यस्यां हिरण्यं प्रभूतं गावो दास्योऽश्वान् विन्देयं पूरुषानहम् ॥

(अग्नि देव! मेरे लिए उन लक्ष्मी देवी का आह्वान करें जो कभी नष्ट ना होने वाली है और जिन के आगमन से आशु, पुत्र, धन दौलत और गौ की हमें प्राप्ति हो।)

यः शुचिः प्रयतो भूत्वा जुहुयादाज्यमन्वहम् ।
सूक्तं पञ्चदशर्चं च श्रीकामः सततं जपेत् ॥

(जिसे भी महालक्ष्मी की कामना हो वह हर रोज पवित्र और संयम शील होकर अग्नि में घी की आहुतियां दें और दिए गए श्री सूक्त पाठ का निरंतर जाप करें।)

॥ फलश्रुति ॥
पद्मानने पद्म ऊरु पद्माक्षी पद्मासम्भवे ।
त्वं मां भजस्व पद्माक्षी येन सौख्यं लभाम्यहम् ॥

(हे मां लक्ष्मी देवी! आप कमल पुष्प पर विराजमान हैं और कमल मुखी, कमल दल के समान नेत्रों वाली हैं और कमल पुष्पों को पसंद करने वाली हैं। सृष्टि के सभी जीव जंतु आपकी कृपा की कामना करते हैं क्योंकि आप सबको मन के अनुकूल फल देने वाली हैं। हे मां लक्ष्मी देवी! आपके चरण कमल हमेशा मेरे हृदय में बने रहे।)

अश्वदायि गोदायि धनदायि महाधने ।
धनं मे जुषतां देवि सर्वकामांश्च देहि मे ॥

(हे मां लक्ष्मी देवी! अश्व, गो, और धन इत्यादि में आप समर्थ हैं अतः मुझे धन प्रदान करने की कृपा करें। हे माता आप मेरी सभी मनोकामना पूर्ण करें।)

पुत्रपौत्र धनं धान्यं हस्त्यश्वादिगवे रथम् ।
प्रजानां भवसि माता आयुष्मन्तं करोतु माम् ॥

(हे मां! आप सृष्टि पर मौजूद सभी जीव जंतुओं की मां हैं। कृपया अपने पुत्र यानी मुझे पुत्र-पौत्र, हाथी घोड़े, बैल, भरत, गो, धन-धान्य से परिपूर्ण करें। मेरी लंबी आयु बनाने की मुझ पर कृपा करें।)

धनमग्निर्धनं वायुर्धनं सूर्यो धनं वसुः ।
धनमिन्द्रो बृहस्पतिर्वरुणं धनमश्नुते ॥

(हे माता लक्ष्मी! आपकी कृपा से मुझे अग्निदेव, धन के देवता, वायु, सूर्य, बृहस्पति, जल, वरुणादि की कृपा हो और सभी की कृपा से धन की प्राप्ति कराएं।)

वैनतेय सोमं पिब सोमं पिबतु वृत्रहा ।
सोमं धनस्य सोमिनो मह्यं ददातु सोमिनः ॥

(हे वैनतेय के पुत्र गरुड़! हे इंद्र, वृतासुर के वध करने वाले आदि समस्त देवता गण जो अमृत पीने वाले हैं सभी मुझ पर अमृत युक्त धन प्रदान करने की कृपा करें।)

न क्रोधो न च मात्सर्य न लोभो नाशुभा मतिः ।
भवन्ति कृतपुण्यानां भक्तानां श्रीसूक्तं जपेत्सदा ॥

(इस सूक्त पाठ करने वाले मनुष्य का क्रोध में, मत्सर में, लोभ व अशुभ कार्यों में मन नहीं लगता और वह हमेशा सच्चे कर्म की ओर प्रेरित होते हैं।)

वर्षन्तु ते विभावरि दिवो अभ्रस्य विद्युतः ।
रोहन्तु सर्वबीजान्यव ब्रह्म द्विषो जहि ॥

(हे माँ लक्ष्मी! अपनी कृपा को आकाश में मौजूद बिजली की तरह बरसाएँ। भाव रूपी सभी बीजों को आपको समर्पित करता हूँ। आप ब्रह्मा स्वरूप हैं और सभी प्रकार के द्वेषों का नाश करने वाली है।)

पद्मप्रिये पद्मिनि पद्महस्ते पद्मालये पद्मदलायताक्षि ।
विश्वप्रिये विष्णु मनोऽनुकूले त्वत्पादपद्मं मयि सन्निधत्स्व ॥

(लक्ष्मी मां! आप हाथों में कमल धारण करने वाली हैं, कमल में निवास करने वाली, कमल को प्रिय, जिनकी आंखें कमल की पंखुड़ियों के समान है। हेमा मुझे आशीर्वाद दें ताकि मैं अपने भीतर आपके चरण कमलों को समाहित कर सकूं)

या सा पद्मासनस्था विपुलकटितटी पद्मपत्रायताक्षी ।
गम्भीरा वर्तनाभिः स्तनभर नमिता शुभ्र वस्त्रोत्तरीया ॥

(हे मा लक्ष्मी! कमल आपका आसन है और आपकी आंखें कमल के समान सुंदर वह बड़ी है। जिस मां लक्ष्मी ने सफेद वस्त्र धारण किया हुआ है जो करुणा का स्वरूप है मैं उन्हें नमन करता हूं।)

लक्ष्मीर्दिव्यैर्गजेन्द्रैर्मणिगणखचितैस्स्नापिता हेमकुम्भैः ।
नित्यं सा पद्महस्ता मम वसतु गृहे सर्वमाङ्गल्ययुक्ता ॥

(हे लक्ष्मी मां! मैं उन लक्ष्मी मां को नमन करता हूं जो विभिन्न रत्नों से जुड़े दिव्य हथियारों और स्वर्ण कलश के जल से स्नान सर अपने हाथों में कमल धारण किए हुए हैं। जो सभी गुणों से परिपूर्ण हैं। हेमा मेरे घर आगमन करें और अपना निवास करें।)

लक्ष्मीं क्षीरसमुद्र राजतनयां श्रीरङ्गधामेश्वरीम् ।
दासीभूतसमस्त देव वनितां लोकैक दीपांकुराम् ॥

(लक्ष्मी मां! मैं आपको नमन करता हूं जो समुंद्र के राजा की पुत्री हैं और भगवान विष्णु के साथ जिन का निवास है। देवों द्वारा उनकी सेवा की जाती है और सभी लोगों में वही एक प्रकाश स्वरूप हैं।)

श्रीमन्मन्दकटाक्षलब्ध विभव ब्रह्मेन्द्रगङ्गाधराम् ।
त्वां त्रैलोक्य कुटुम्बिनीं सरसिजां वन्दे मुकुन्दप्रियाम् ॥

(माता लक्ष्मी को नमस्कार! आपकी कोमल दृष्टि से ही ब्रह्मा, इंद्र, महेश की महिमा होती है। हे माता आपने तो लोगों को कमल की तरह खिलाया है और आप इस विशाल सृष्टि की मां है। सभी जन आप की प्रशंसा करते हैं और आप सभी जीवो की प्रिय हैं।)

सिद्धलक्ष्मीर्मोक्षलक्ष्मीर्जयलक्ष्मीस्सरस्वती ।
श्रीलक्ष्मीर्वरलक्ष्मीश्च प्रसन्ना मम सर्वदा ॥

(हे मां लक्ष्मी आपको प्रणाम! हेमा आप के विभिन्न रूप सिद्ध लक्ष्मी, मोक्ष लक्ष्मी, जयालक्ष्मी, सरस्वती, श्री लक्ष्मी वैभव लक्ष्मी मुझ पर हमेशा कृपा दृष्टि बनाए रखें।)

वरांकुशौ पाशमभीतिमुद्रां करैर्वहन्तीं कमलासनस्थाम् ।
बालार्क कोटि प्रतिभां त्रिणेत्रां भजेहमाद्यां जगदीस्वरीं त्वाम् ॥

(हे मां लक्ष्मी! आपके चारों हाथ वरदान देने वाले, हुक, पाशा धारण करने वाले, और निर्भयता का स्वरूप है और जिन से बाधाएं दूर होती हैं और निडरता आती है। मां मैं आपकी पूजा करता हूं जिनकी आंखों से लाखों सूर्य और तारे उत्पन्न होते हैं।)

सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थ साधिके ।
शरण्ये त्र्यम्बके देवि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥
नारायणि नमोऽस्तु ते ॥ नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

(हे मां लक्ष्मी आपको कोटि-कोटि नमन! आप मंगल से अधिक मंगल हैं, सभी गुणों से परिपूर्ण और शुभ से अधिक शुभ है जो सभी की कामना पूर्ण करती है। आपके भक्तों को पुरुषार्थ, धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष की प्राप्ति होती है। हे देवी मैं आपको नमन करता हूं जो अपने भक्तों को शरण देने वाली और तीन आंखें धारण करने वाली है। हे माँ नारायणी मैं आपको नमन करता हूं, हे माँ नारायणी मैं आपको नमन करता हूं।)

सरसिजनिलये सरोजहस्ते धवलतरांशुक गन्धमाल्यशोभे ।
भगवति हरिवल्लभे मनोज्ञे त्रिभुवनभूतिकरि प्रसीद मह्यम् ॥

(हे भगवती! आप कमल वासनी हैं, हाथों में कमल धारण करने वाली, धवल वस्त्र धारण करने वाली, पुष्पा से सुशोभित, गन्धानुलेप से सुशोभित, भगवान विष्णु की प्रिय और त्रिलोक को ऐश्वर्य प्रदान करने वाली हैं। कृपा मुझ पर प्रसन्न हों।)

विष्णुपत्नीं क्षमां देवीं माधवीं माधवप्रियाम् ।
विष्णोः प्रियसखीं देवीं नमाम्यच्युतवल्लभाम् ॥

(हे भगवान विष्णु की पत्नी, माधव को प्रिय, माधवी, प्रिय सखी, भूदेवी भगवती लक्ष्मी को मैं नमस्कार करता हूं।)

महालक्ष्मी च विद्महे विष्णुपत्नी च धीमहि ।
तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात् ॥

(हम महालक्ष्मी जो भगवान विष्णु की पत्नी है उनसे परिचित हैं और उनका ध्यान करते हैं। हे मां लक्ष्मी हमें सत्य के मार्ग पर चलने के लिए प्रेरणा प्रदान करने की कृपा करें।)

श्रीवर्चस्यमायुष्यमारोग्यमाविधात् पवमानं महियते ।
धनं धान्यं पशुं बहुपुत्रलाभं शतसंवत्सरं दीर्घमायुः ॥

(हे भगवती हे मां लक्ष्मी मानव के लिए आरोग्य, धन-धान्य से परिपूर्ण, आयुष्य, सौ वर्ष से अधिक जीवन और पुत्रों की प्राप्ति का विधान करें। मानव इन्हें प्राप्त कर प्रतिष्ठा की प्राप्ति करें।)

ऋणरोगादिदारिद्र्यपापक्षुदपमृत्यवः ।
भयशोकमनस्तापा नश्यन्तु मम सर्वदा ॥

(ऋण, रोग, पाप, दरिद्रता, क्षुधा, अकालमृत्यु, भय, शोक और मानसिक तनाव आदि से सम्बंधित सभी बाधा दूर हों।)

य एवं वेद ।
ॐ महादेव्यै च विद्महे विष्णुपत्नी च धीमहि ।
तन्नो लक्ष्मीः प्रचोदयात्
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः ॥


ज़रूर पढ़ें:

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here