गुरूवार, मार्च 30, 2023

12th ke baad kya kare – Science Student

- Advertisement -
- Advertisement -
- Advertisement -

जब हम दसवीं कक्षा पास करते हैं तो हमारे सामने तीन विकल्प होते हैं कि हम साइंस चुने कॉमर्स चुने या फिर आर्ट. लेकिन जब हम 12वीं कक्षा पास करते हैं तो एक दुविधा में फंस जाते हैं कि आखिर 12th के बाद क्या करें?

इस लेख में 12th ke baad kya kare? सवाल का जवाब दिया है और अगर आप विज्ञान के विद्यार्थी मतलब कि अगर आपने 12th क्लास साइंस से पास की है तो यह लेख आपके लिए हैं। जिसमें हम ने बताया है कि 12th के बाद क्या कैरियर आप को चुनना चाहिए आपको आगे पढ़ाई करनी चाहिए या फिर सरकारी जॉब के लिए पढ़ना चाहिए।

अगर आप साइंस के स्टूडेंट नहीं हैं और आपने 12वीं कक्षा कॉमर्स या आर्ट से पास की है तो आप कॉमर्स और आर्ट से संबंधित पोस्ट को पढ़ सकते हैं जिसमें सभी जानकारियां दी गई हैं।

12th के बाद Commerce Students क्या करें ?

12th के बाद Arts Students क्या करें ?

12th ke baad kya kare? – Science Students

12वीं कक्षा पास करने के बाद हर छात्र के मन में अपने कैरियर के प्रति चिंता होती है क्योंकि 12वीं के बाद हर छात्र यह सोचना शुरू कर देता है कि वह अपने कैरियर में क्या करेगा। क्योंकि, बारहवीं कक्षा के बाद छात्र जिस भी कोर्स को करेगा उसका कैरियर उस कोर्स पर ही निर्धारित होता है।

उदाहरण के तौर पर यदि कोई छात्र इंजीनियर बनना चाहता है तो वह B.Tech या B.E चुनेगा और यदि वह किसी साइंस के सब्जेक्ट पर बैचलर डिग्री करना चाहेगा तो वह B.Sc चुनेगा।

इसीलिए 12वीं कक्षा पास करने के बाद ज्यादातर छात्र इस दुविधा में होते हैं कि हमें क्या करना चाहिए और अगर किसी कोर्स को करना है तो किस कोर्स के साथ हमें जाना चाहिए। बहुत सारे छात्र बारहवीं कक्षा के पश्चात गवर्नमेंट जॉब की तैयारी भी शुरू कर देते हैं इस विषय के बारे में भी हम बात करेंगे।

सबसे पहले हम जानेंगे कि 12th Science के बाद किस कोर्स को हम कर सकते हैं?

12th के बाद Science student के लिए Best Course

1. B.tech / B.E

B.Tech की फुल फॉर्म है बैचलर ऑफ़ टेक्नोलॉजी, B.E की फुल फॉर्म है बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग, B.Tech/B.E की पढ़ाई में Technical पढ़ाई होती है। यदि आप इंजीनियरिंग करना चाहते हैं और एक टेक्निकल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आप B.Tech/B.E की पढ़ाई कर सकते हैं। B.Tech/B.E मैं अनेकों प्रकार के कोर्स शामिल हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है।

  • Aeronautical Engineering – एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में एयरक्राफ्ट को ऑपरेट करने उसके डिजाइन और डेवलपमेंट के बारे में सिखाया जाता है। एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में कोर्स करने वाले छात्र को कमर्शियल और मिलिट्री एयरक्राफ्ट की टेस्टिंग और एनालिसिस की ट्रेनिंग भी मिलती है इसके अलावा इस कोर्स में मिसाइल और स्पेसक्राफ्ट और उन्हें बनाने और डिजाइन करने के बारे में सिखाया जाता है।
  • Automobile Engineering – ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल यानी वाहनों के डिजाइन उनके निर्माण और विकास के बारे में होती है। यदि आपकी रूचि गाड़ियों और उनके डिजाइन और उनके विकास में है तो आप के लिए ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग एक बहुत ही बढ़िया विकल्प है। ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग में सभी तरह के वाहनों के निर्माण और उनके डिजाइन के बारे में सिखाया जाता है।
  • Biotechnology – बायोटेक्नोलॉजी में जीवो द्वारा प्राप्त होने वाले पदार्थ के बारे में अध्ययन किया जाता है जिसमें इन पदार्थों के उपयोग से उत्पाद का बढ़ाना और उन्हें सुधार करना आता है। बायो टेक्नोलॉजी में स्वास्थ्य, कृषि, उद्योग, पर्यावरण और चिकित्सा इत्यादि क्षेत्र आते हैं। भारत में बायो टेक्नोलॉजी कोर्स की अवधि 3 वर्ष है जो एक अंडर ग्रैजुएट कोर्स है।
  • Civil Engineering – सिविल इंजीनियरिंग में इमारतें, सड़क, नेहरे, पुल आदि के डिजाइन और निर्माण के बारे में सिखाया जाता है।सिविल इंजीनियरिंग में इमारतों और उनके निर्माण कार्य से संबंधित विज्ञान के बारे में भी सीखने को मिलता है।
  • Computer Science and Engineering – कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग कोर्स में कंप्यूटर प्रोसेस और डाटा का अध्ययन किया जाता है इसके साथ-साथ हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट करने के लिए भी इस कोर्स में सीखने को मिलता है।इस कोर्स में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग को कंप्यूटर विज्ञान से मिलाकर नई तकनीक विकसित करने के बारे में भी अध्ययन किया जाता है जिससे आधुनिक कंप्यूटर के डिजाइन किए जाते हैं और उनका निर्माण होता है।
  • Electrical and Electronics Engineering – इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग और इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग अलग-अलग होती हैं।इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में इलेक्ट्रिकल उपकरण किस प्रकार कार्य करते हैं और अपने काम को करने के लिए कैसे इलेक्ट्रिकल एनर्जी का उपयोग होता है उसका अध्ययन किया जाता है। जबकि इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में किसी उपकरण के काम को करते समय इलेक्ट्रॉन को कंट्रोल करने के बारे में होती है, जिसमें उपकरणों को कंट्रोल करना सिखाया जाता है।
  • Mechanical Engineering – मैकेनिकल इंजीनियरिंग में मशीनों के काम करने के तरीके उनको डिजाइन करने उनको विकसित करने और मशीनों के बारे में समझने का अध्ययन होता है। इसके अलावा मशीनों की टेस्टिंग और उनकी इंस्टॉलेशन के बारे में भी मैकेनिकल इंजीनियरिंग में सिखाया जाता है। यदि किसी छात्र को मशीनों से प्यार है और वह मशीनों से जुड़ा कैरियर चाहता है तो वह मैकेनिकल इंजीनियरिंग चुन सकता है।
  • Electronics & Communication – इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन कोर्स में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के अध्ययन के साथ-साथ कम्युनिकेशन डिवाइस जैसे ट्रांसमीटर रिसीवर के बारे में सिखाया जाता है। एंटीना डाटा रिसेप्शन माइक्रोप्रोसेसर सेटेलाइट इत्यादि इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्युनिकेशन कोर्स का ही हिस्सा है।
  • Chemical Engineering – केमिकल इंजीनियरिंग में रसायनिक निर्माण और उनकी प्रक्रियाओं और उनके विकास और उनके डिजाइन के बारे में अध्ययन किया जाता है। केमिकल इंजीनियरिंग में एयर पोलूशन, हीट ट्रांसफर, केमिकल रिएक्शन, केमिकल प्रोसेस, फर्टिलाइजर टेक्नोलॉज, थर्मोडायनेमिक्स इत्यादि के बारे में सिखाया जाता है।यदि आप की केमिस्ट्री अच्छी है और आप केमिस्ट्री में और आगे इंजीनियरिंग करना चाहते हैं तो आप केमिकल इंजीनियरिंग कर सकते हैं।

हमें 12th के बाद कोर्स वह चुनना चाहिए जिसको सीखने में हमें मजा आए और जिस विषय के बारे में आपकी रूचि हो, उदाहरण के लिए यदि आपकी रूचि गाड़ियों के डिजाइन में है और आप चुन बायो टेक्नोलॉजी को लेते हैं तो यह आपके लिए और आपके भविष्य के लिए सही नहीं होगा। इसीलिए कोर्स सिर्फ वह चुने जिसमें आपका मन लगे और जिसमेंआपकी रूचि हो।

यह कुछ ऐसे मुख्य कोर्स थे जिन्हें आप 12वीं के बाद चुन सकते हैं इसके अलावा भी बहुत सारे ऐसे कोर्स हैं जो आप 12वीं साइंस के बाद कर सकते हैं, जिनमें से कुछ कोर्स नीचे भी दिए गए हैं।

  • Petroleum engineering – पैट्रोलियम इंजीनियरिंग में प्राकृतिक गैस, पेट्रोलियम, हाइड्रोकार्बन इत्यादि के बारे में अध्ययन किया जाता है और जिसमें हम सीखते हैं कि पृथ्वी की सतह के नीचे तेल या गैस कैसे निकाले।पृथ्वी की सतह के नीचे तेल और गैस के भंडारों को खोजने और निकालने के तरीके को डिजाइन करना और उन डिजाइन को विकसित करना भी पैट्रोलियम इंजीनियरिंग में सिखाया जाता है.
  • Aerospace Engineering – एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में अंतरिक्ष यान, विमान, मिसाइलों इत्यादि के डिजाइन और निर्माण का अध्ययन किया जाता है और इसके साथ-साथ उनका विश्लेषण और उन्हें विकसित करना भी एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में शामिल होता है।
  • Mining Engineering – माइनिंग इंजीनियरिंग को हिंदी में खनन इंजीनियरिंग भी कहा जाता है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का पता लगाने और उन्हें निकालने के बारे में सिखाया जाता है। माइनिंग इंजीनियरिंग में पर्यावरण इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, जिओ टेक्निकल, इलेक्ट्रिकल और हाइड्रॉलिक इंजीनियरिंग का उपयोग होता है जिसमें माइनिंग करके खनिज निकालने और उनके तरीकों के बारे में अध्ययन किया जाता है।
  • Agriculture engineering – एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में कृषि संबंधी मशीनों के डिजाइन, कृषि जल निकासी, मिट्टी के कटाव पर नियंत्रण, सिंचाई के लिए जल आपूर्ति इत्यादि का अध्ययन किया जाता है। एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में फसलों के उत्पादन और खेती में सुधार के लिए तकनीकी सिद्धांतों के बारे में सिखाया जाता है।

इसके अलावा ढेरों सारे इंजीनियरिंग और टेक्निकल कोर्स मौजूद हैं जो आप 12वीं के बाद कर सकते हैं, यदि आपकी रूचि किसी विशेष विषय के बारे में है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं हम उस विषय से जुड़े कोर्स को इस लिस्ट में जरूर शामिल करेंगे।

2. B.Sc

B.Sc कोर्स दो प्रकार का होता है जिसे हम 12वीं साइंस के बाद कर सकते हैं।बीएससी करने के लिए आपको साइंस का स्टूडेंट होना जरूरी है यदि आपने 12वीं कक्षा में कॉमर्स या आर्ट्स को चुना है तो आप बीएससी नहीं कर सकते।

  • Information Technology – इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी जिसे हम IT के नाम से भी जानते हैं, यदि आप कंप्यूटर के साथ जुड़ा रहना पसंद करते हैं और मोबाइल और वेब बेस्ड एप्लीकेशन के बारे में जान ना पसंद करते हैं तो आप इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी कोर्स कर सकते हैं।इस कोर्स में आपको हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, कोडिंग और डाटा के बारे में सिखाया जाता है।
  • Computer science – कंप्यूटर साइंस कोर्स कंप्यूटर से जुड़ा एक कोर्स है जिसमें कंप्यूटर में की जाने वाली कैलकुलेशंस, डाटा एनालिसिस और प्रेडिक्शन के बारे में सिखाया जाता है।
  • Nursing – B.Sc Nursing मैं स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के बारे में सिखाया जाता है और यह अध्ययन किया जाता है कि रोगी को कैसे संभालना है और कैसे इलाज होता है।इसके अलावा डॉक्टर और मरीज के बीच में तालमेल बनाने के बारे में भी इस कोर्स में सीखा जाता है। इस कोर्स को करने के लिए आपके पास बायो सब्जेक्ट 12वीं क्लास में होना जरूरी है।
  • Fashion Designing – यदि आप फैशन पसंद व्यक्ति हैं और आपको फैशन की चीजें जैसे नए नए डिजाइन की आदि में रुचि है तो आप बारहवीं कक्षा के बाद फैशन डिजाइनिंग में B.Sc कर सकते हैं। इसमें फैशन डिजाइन करने के बारे में और उसके विज्ञान के बारे में सिखाया जाता है।
  • Animation – आज के दौर में 3D प्रिंटिंग और 3डी गेम्स मौजूद है और आपने एनिमेशन और मल्टीमीडिया के बारे में जरूर सुना होगा। B.Sc एनिमेशन में आपको विजुअल आर्ट, सिनेमा, कंप्यूटर एनीमेशन, इत्यादि के बारे में सिखाया जाता है।इसके अलावा बिजनेस और मार्केटिंग इत्यादि के बारे में भी इस कोर्स में सीखने को मिलता है।
  • Mathematics – यदि आप अपने स्कूल में गणित के सब्जेक्ट में अच्छे रहे हैं और आप गणित में ही अपना कैरियर बनाने की सोच रहे हैं तो B.Sc Mathematics आपके लिए सबसे उचित कोर्स रहेगा। इस वर्ष में मैथमेटिक्स के साथ-साथ कंप्यूटर साइंस और टेक्नोलॉजी के बारे में भी सिखाया जाता है जिसमें आप अपना अच्छा करियर बना सकते हैं।
  • B.Sc in Physics – अगर आपकी भौतिकी विज्ञान में रुचि है और आप इसी में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो आप भौतिक विज्ञान में B.Sc कर सकते हैं। इस कोर्स में फिजिक्स के नियमों और भौतिकी विज्ञान का डिटेल में अध्ययन होता है।
  • Botany – Botany कोर्स में पेड़ पौधों पर पर्यावरण के कारण पड़ने वाले प्रभाव का अध्ययन किया जाता है। इस कोर्स में आप पौधों के जीवन के बारे में सीखते हैं।
  • Geology – जियोलॉजी में पृथ्वी पर मौजूद पहाड़, पत्थर, पानी और पृथ्वी के अंदर मौजूद चीजों का अध्ययन होता है। जियोलॉजी कोर्स में पृथ्वी पर ही नहीं बल्कि पृथ्वी के बाहर दूसरे ग्रहों पर मौजूद चीजों का ही अध्ययन सिखाया जाता है।
  • Economics – इकोनॉमिक्स को अर्थशास्त्र भी कहते हैं, जिसमें बैंकिंग सेक्टर, फाइनेंशियल इंस्टिट्यूशन, कॉमर्स, बीमा, शेयर बाजार, इत्यादि का अध्ययन होता है। इस कोर्स में सिखाया जाता है की डिमांड और सप्लाई से मार्केट पर क्या फर्क पड़ता है और इक्नॉमी को देखते हुए कैसे डिसीजन लिए जाते हैं।
  • Chemistry Honours – केमिस्ट्री ऑनर्स में रसायनों के विज्ञान को समझा जाता है और उनका अध्ययन किया जाता है। जो विद्यार्थी केमिस्ट्री में अच्छे हैं और केमिस्ट्री में ही अपना कैरियर बनाना चाहते हैं वह इस कोर्स को 12वीं के बाद चुन सकते हैं।
  • Zoology – जूलॉजी कोर्स में जीवो का अध्ययन किया जाता है जिसमें उनके बारे में सीखने को मिलता है कि वह कैसे जीते हैं कैसे वह विकसित हुए और उनके स्वभाव के बारे में भी इस कोर्स में पढ़ाया जाता है। यदि आपकी रूचि जीवो से है और उनके बारे में सीखना चाहते हैं और इसी में अपना कैरियर बनाना चाहते हैं तो आपको जूलॉजी कोर्स करना चाहिए।
  • Nutrition and Dietetics – इस कोर्स में खाने और उनके न्यूट्रीशन के बारे में अध्ययन होता है, जिसमें यह सिखाया जाता है कि किस खाने से मानव शरीर पर क्या असर होता है। इसमें खाने और उसके विज्ञान के बारे में अध्ययन किया जाता है यदि आप इस विषय में रुचि रखते हैं तो आप Nutrition and Dietetics कोर्स कर सकते हैं।

ऊपर दिए गए कोर्स वह मुख्य कोर्स हैं जिन्हें आप 12वीं कक्षा पास करने के बाद कर सकते हैं। यदि आप एक 12वीं साइंस के छात्र हैं और आपका किसी विशेष विषय में मन लगता है तो आप उसके बारे में हमें बताएं हम आपको उस विषय से रिलेटेड कोर्स के बारे में बताएंगे।

बारहवीं कक्षा के बाद नौकरी

कई छात्र 12th क्लास पास करने के बाद सरकारी नौकरी की तलाश में जुट जाते हैं और उन नौकरियों से संबंधित आवेदन देते हैं। 12th कक्षा पास करने के पश्चात आप सरकारी नौकरी कर सकते हैं उदाहरण के तौर पर नेवी, आर्मी, एयरफोर्स, पुलिस, क्लर्क इत्यादि कुछ ऐसी सरकारी नौकरियां हैं जिनके लिए आप 12th क्लास पास करने के बाद आवेदन कर सकते हैं।

लेकिन 12th क्लास पास करने के बाद जब आप किसी सरकारी नौकरी को पाते हैं तो वहां पर छोटे पद से आपको शुरुआत करनी होती है, यदि आप आगे पढ़ने में रुचि नहीं रखते हैं तो आप 12th क्लास के बाद सरकारी नौकरी की तैयारी कर सकते हैं और उसके लिए आवेदन भी कर सकते हैं। बहुत सारी ऐसी नौकरियां होती हैं जिसमें स्नातक (Degree) तक पढ़ाई मांगी जाती है, यदि आप इस तरह की सरकारी नौकरी करना चाहते हैं तो आपको स्नातक की पढ़ाई जरूर करनी चाहिए।

ऐसा जरूरी नहीं है कि आप सरकारी नौकरी की तैयारी के साथ साथ स्नातक की पढ़ाई नहीं कर सकते। यदि आप सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे हैं तो आपको इसके साथ-साथ स्नातक की पढ़ाई भी करनी चाहिए।

क्योंकि 12th क्लास पास बच्चों के लिए जो सरकारी नौकरियां होती हैं उन सरकारी नौकरियों में आप जब अपनी स्नातक की पढ़ाई के सर्टिफिकेट के साथ आवेदन करते हैं तो आपको प्राथमिकता दी जाती है। इसके अलावा स्नातक स्तर पर निकलने वाली सरकारी भर्तियों में आवेदन करने के लिए भी आप योग्य हो जाते हैं।


आपसे निवेदन – हम आप सभी से निवेदन करते हैं कि यदि आप 12वीं साइंस के छात्र हैं और आपको आपके सवाल “12th ke baad kya kare? -Science Student” का जवाब मिल गया हो तो इस लेख को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।

सम्बंधित जानकारी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -spot_img

ज़रूर पढ़ें

नवीनतम